Matar Assembly Seat Result: कुछ देर में शुरू होगी काउंटिंग, यहां देखें लाइव अपडेट

1 month ago

मातर विधानसभा सीट पर 19 साल से बीजेपी कोई चुनाव नहीं हारी है.

मातर विधानसभा सीट पर 19 साल से बीजेपी कोई चुनाव नहीं हारी है.

Matar Assembly Election Result 2022 Live Update: मातर विधानसभा सीट (Matar Assembly Seat) खेड़ा ज‍िला (Kheda District) के अंतर्गत आता है. मातर विधानसभा चुनाव की मतगणना कुछ ही देर में शुरू होने वाली है. इस विधानसभा सीट पर पांच दिसंबर को दूसरे चरण में वोट डाले गए थे. मातर विधानसभा सीट में बीजेपी का वर्चस्व रहा है. इस बार चुनाव में बीजेपी ने सीटिंग विधायक केसरिसिंह सोलंकी (Kesharisinh Solanki) की जगह कल्पेशभाई परमार (Kalpeshbhai Parmar) को चुनावी दंगल में उतरा है. वहीं कांग्रेस ने संजय पटेल (Sanjay Patel) को अपना प्रत्याशी बनाया है. आम आदमी पार्टी(AAP) ने  लालजी परमार (Lalji Parmar) को मैदान में उतारा है. आज शाम तक परिणाम आने के बाद ही पता चलेगा कि इस सीट पर किसका वर्चस्व रहता है. 

2017 में बीजेपी मारी थी बाजी
मातर विधानसभा सीट (Matar Assembly Seat) पर 2002 से बीजेपी का एकाधिकार रहा है. 2017 में भाजपा के केसरिसिंह जेसंगभाई सोलंकी (Kesharisinh Solanki) को 81,509 वोट मिले थे. जबकि उनके निकट प्रतिद्वंदी  कांग्रेस के संजयभाई पटेल (Sanjay Patel) को 79,103 वोट मिले थे. दोनों उम्मीदवारों के बीच जीत-हार का अंतर 2,406 वोटों का रहा था. साल 2012 में भाजपा के देवूसिंह यशिंगभाई चौहान ने कांग्रेस के संजयभाई पटेल (Sanjay Patel) को 6,487 मतों से हराया था. 2002 और 2007 विधानसभा चुनाव में बीजेपी के पक्ष में रहा था.

मातर सीट पर 2.52 लाख से ज्‍यादा मतदाता
चुनाव आयोग की रिपोर्ट के अनुसार मातर व‍िधानसभा सीट (Matar Assembly Seat) पर कुल मतदाताओं की संख्‍या 252269 है. इनमें 128835 पुरूष और 128835 मह‍िला मतदाता हैं. इस सीट पर कुल अन्‍य मतदाताओं की संख्‍या 9 है.

मातर सीट की दिलचस्प बातें
मालूम हो कि इस सीट पर 2002, 2007, 2012, और 2017 की चुनाव में लगातार जीत दर्ज की है. वहीं, कांग्रेस ने आखिरी बार यहां 1998 में जीत दर्ज की थी.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|

FIRST PUBLISHED :

December 08, 2022, 06:10 IST

Read Full Article at Source