GDP विकास दर रोजगार वृद्धि से मेल नहीं खातीः विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा

1 month ago

केंद्रीय मंत्री एस जयशंकर ने रोजगार और जीडीपी के आंकड़े को लेकर बयान जारी किया है. (फोटो- ANI)

केंद्रीय मंत्री एस जयशंकर ने रोजगार और जीडीपी के आंकड़े को लेकर बयान जारी किया है. (फोटो- ANI)

शुक्रवार को जारी सरकारी आंकड़ों के अनुसार, जून 2022 में महंगाई दर 7.01 प्रतिशत जबकि जुलाई 2021 में 5.59 प्रतिशत थी. आंकड़ों के मुताबिक खाद्य मुद्रास्फीति भी जुलाई महीने में नरम पड़कर 6.75 प्रतिशत पर पहुंच गयी जबकि जून में यह 7.75 प्रतिशत थी.

अधिक पढ़ें ...

एएनआईLast Updated : August 12, 2022, 18:53 ISTEditor default picture

हाइलाइट्स

विदेश मंत्री एय जयशंकर ने कहा कि हमारी जीडीपी विकास दर हमारे रोजगार वृद्धि से मेल नहीं खाती है.
चालू वित्त वर्ष के पहले तीन महीने में खुदरा मुद्रास्फीति 7.0 प्रतिशत से ऊपर रही है.

बेंगलुरू. कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरू में एक कार्यक्रम के दौरान विदेश मंत्री एस जयशंकर ने जीडीपी और रोजगार को लेकर बयान दिया है. उन्होंने कहा कि पिछले 25 वर्षों को देखना दिलचस्प है, हमारी जीडीपी विकास दर हमारे रोजगार वृद्धि से मेल नहीं खाती है. क्योंकि बिना चेन की आपूर्ति की भारत में कारोबार तेजी से बढ़ रहा है. हमने अपने एमएसएमई की देखभाल नहीं की. वहीं शुक्रवार को सरकारी आंकड़ा जारी किया गया है, जिसमें महंगाई दर को लेकर रिपोर्ट जारी किया गया है. खाने का सामान सस्ता होने से खुदरा मुद्रास्फीति जुलाई में नरम होकर 6.71 प्रतिशत पर आ गयी.

शुक्रवार को जारी सरकारी आंकड़ों के अनुसार, जून 2022 में महंगाई दर 7.01 प्रतिशत जबकि जुलाई 2021 में 5.59 प्रतिशत थी. आंकड़ों के मुताबिक खाद्य मुद्रास्फीति भी जुलाई महीने में नरम पड़कर 6.75 प्रतिशत पर पहुंच गयी जबकि जून में यह 7.75 प्रतिशत थी. हालांकि उपभोक्ता मूल्य सूचकांक आधारित खुदरा मुद्रास्फीति अभी भी भारतीय रिजर्व बैंक के संतोषजनक स्तर की उच्च सीमा 6.0 प्रतिशत से ऊपर बनी हुई है. यह पिछले सात महीने से 6.0 प्रतिशत से ऊपर है.

रिजर्व बैंक को खुदरा महंगाई दो प्रतिशत घट-बढ़ के साथ चार प्रतिशत पर रखने की जिम्मेदारी मिली हुई है. चालू वित्त वर्ष के पहले तीन महीने में खुदरा मुद्रास्फीति 7.0 प्रतिशत से ऊपर रही है. देश का निर्यात जुलाई में 2.14 प्रतिशत बढ़कर 36.27 अरब डॉलर पर पहुंचा, व्यापार घाटा भी बढ़कर 30 अरब डॉलर हुआ. वहीं औद्योगिक उत्पादन चालू वित्त वर्ष की अप्रैल-जून तिमाही में 12.7 प्रतिशत बढ़ा है. वैश्विक स्तर पर पाम ऑयल, सोयाबीन और सूरजमुखी तेल के दामों में जून महीने से गिरावट के बीच खाद्य तेल का आयात जुलाई महीने में 31 फीसदी बढ़कर 12.05 लाख टन हो गया. उद्योग के आंकड़ों में यह जानकारी दी गई. पिछले वर्ष इसी महीने में 9.17 लाख टन खाद्य तेलों का आयात किया गया था. (इनपुट भाषा से)

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी | आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी |

Tags: S Jaishankar

FIRST PUBLISHED :

August 12, 2022, 18:53 IST

Read Full Article at Source