दिल्‍ली: जम्मू-कश्मीर सुरक्षा समीक्षा पर मंगलवार को बड़ी बैठक, ड्रोन के खतरे पर होगा मंथन

1 month ago

हाइलाइट्स

केंद्रीय गृह मंत्रालय में मंगलवार को बड़ी बैठक
जम्‍मू- कश्‍मीर सुरक्षा और हालात पर होगा मंथन
ड्रोन के खतरों और टारगेट किलिंग पर भी चर्चा

नई दिल्‍ली. पाकिस्तान (Pakistan) द्वारा सीमा पार से ड्रोन के जरिए ड्रग्स, हथियार और नकदी की तस्करी के बीच जम्मू कश्मीर (Jammu Kashmir) के सुरक्षा हालात पर मंगलवार को केंद्रीय गृह मंत्रालय (Union Home Ministry) में उच्च स्तरीय बैठक होगी. केंद्रीय गृह सचिव अजय कुमार भल्ला ने केंद्रीय गृह मंत्रालय में उच्च स्तरीय बैठक बुलाई है जिसमें केंद्र शासित प्रदेश के आला अधिकारी शामिल होंगे. जम्मू कश्मीर के मुख्य सचिव अरुण मेहता, पुलिस महानिदेशक दिलबाग सिंह और जम्मू कश्मीर प्रशासन और खुफिया विभाग के अधिकारी शामिल भी होंगे.

मंगलवार सुबह होने वाली इस बैठक में इंटेलिजेंस ब्यूरो और रॉ के आला अधिकारी, अर्धसैनिक बलों के प्रमुख और केंद्रीय गृह मंत्रालय में जम्मू-कश्मीर विभाग के अधिकारी भी शामिल रहेंगे. सूत्रों ने न्यूज़18 को बताया इस बैठक में जम्मू कश्मीर में विकास परियोजनाओं की समीक्षा के साथ-साथ केंद्र शासित प्रदेश के सुरक्षा हालात की भी समीक्षा की जाएगी. MHA में यह मीटिंग उस वक्त हो रही है कि जब कश्मीर में एक बार फिर कश्मीरी पंडितों और प्रधानमंत्री रोजगार योजना के तहत काम कर रहे अल्पसंख्यक कश्मीरी कर्मचारियों को आतंकी संगठन ने धमकी दी है.

कश्‍मीर में हुई टारगेट किलिंग पर भी चर्चा होगी                                                                     केंद्रीय गृह सचिव की अध्यक्षता में हो रही बैठक में घाटी में अल्पसंख्यक समुदाय के सदस्यों और देश के दूसरे राज्यों से कश्मीर में काम करने आए कामगारों की टारगेट किलिंग पर भी चर्चा होगी, और टारगेट किलिंग पर रोक लगाने के लिए रणनीति पर चर्चा की जाएगी. वही सीमा पर तैनात सुरक्षाबलों के लिए सबसे बड़ी चुनौती के तौर पर उभरे ड्रोन की समस्या से निपटने के लिए भी बैठक में चर्चा होगी. बीएसएफ यानी सीमा सुरक्षा बल ने इस साल 16 ड्रोन मार गिराए वहीं पिछले साल यह आंकड़ा सिर्फ एक था.

भारत- पाकिस्‍तान सीमा पर ड्रोन का खतरा मंडरा रहा                                                     बीएसएफ के महानिदेशक पंकज कुमार सिंह ने हाल ही में कहा था कि ड्रोन एक चुनौती है और अभी कोई पुख्ता एंट्री-ड्रोन तकनीक नहीं है, लेकिन भारत इसे विकसित कर रहा है. सुरक्षा एजेंसियों से मिली जानकारी के अनुसार इस साल 15 अक्टूबर तक भारत पाक सीमा पर 232 बार ड्रोन देखा गया जबकि पिछले साल यह आंकड़ा 109 था और 2020 में 79 बार ड्रोन देखा गया था. इस साल सबसे अधिक 186 बार ड्रोन पंजाब सीमा में देखा गया, वहीं जम्मू में 20, कश्मीर में दो बार, राजस्थान में 20 बार और गुजरात में चार बार ड्रोन देखा गया. गृह मंत्री अमित शाह के अक्टूबर में जम्मू कश्मीर दौरे के बाद यह जम्मू कश्मीर सुरक्षा पर गृह मंत्रालय की पहली बैठक है. पिछले महीने जम्मू कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने प्रधानमंत्री मोदी से मुलाकात कर जम्मू कश्मीर के हालात की जानकारी दी थी.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|

Tags: Drone, Jammu kashmir, Union home ministry

FIRST PUBLISHED :

December 05, 2022, 22:54 IST

Read Full Article at Source