लेखक सलमान रुश्दी पर न्यूयॉर्क में हमला:कार्यक्रम के दौरान मंच पर चाकू मारा, अस्पताल में भर्ती

1 month ago

न्यूयॉर्क9 मिनट पहले

कॉपी लिंकवीडियो

भारतीय मूल के ब्रिटिश-अमेरिकी लेखक सलमान रुश्दी पर पश्चिमी न्यूयॉर्क में जानलेवा हमला हुआ है। वे एक कार्यक्रम के दौरान मंच पर संबोधन देने के लिए पहुंचे थे। जानकारी के मुताबिक, एक व्यक्ति तेजी से रुश्दी की ओर बढ़ा और उन पर चाकू से हमला कर दिया। घटना के बाद मंच पर खून के छींटे भी दिखाई दिए। हमलावर की गिरफ्तारी को लेकर अभी कोई जानकारी नहीं मिल पाई है।

रुश्दी का जन्म मुंबई में हुआ था। सैटेनिक वर्सेस और मिडनाइट चिल्ड्रेन जैसी किताबें लिख कर चर्चा में आए रुश्दी को बुकर पुरस्कार से सम्मानित किया जा चुका है। सैटनिक वर्सेस के लिए उन्हें ईरान के सर्वोच्च धार्मिक नेता अयातुल्ला रुहोल्ला खोमैनी के फतवे का सामना करना पड़ा था।

’सेटेनिक वर्सेज’ को लेकर चर्चा में रहे
75 साल के सलमान रुश्दी ने अपनी किताबों से दुनिया भर में पहचान बनाई। अपने दूसरे ही उपन्यास ‘मिडनाइट्स चिल्ड्रन’ के लिए 1981 में ‘बुकर प्राइज’ और 1983 में ‘बेस्ट ऑफ द बुकर्स’ पुरस्कार से सम्मानित किये गए।

सलमान रुश्दी ने लेखक के तौर पर शुरुआत 1975 में अपनी पहली नॉवेल ‘ग्राइमस’ (Grimus) के साथ की थी। उन्हें पहचान उनके दूसरे ही नॉवेल ‘मिडनाइट्स चिल्ड्रेन’ से मिली। उन्होंने कई किताबें लिखीं जिसमें द जैगुअर स्माइल, द मूर्स लास्ट साई, द ग्राउंड बिनीथ हर फीट और शालीमार द क्लाउन शामिल हैं। लेकिन रूश्दी सबसे ज्यादा अपनी विवादित किताब ‘द सेटेनिक वर्सेज’ को लेकर चर्चा में रहे।

सेटेनिक वर्सेज हुआ था विवाद
‘द सेटेनिक वर्सेज’ सलमान रुश्दी की चौथी नॉवेल है । भारत और दुनिया के कई देशों में यह नॉवेल बैन है। यह नॉवेल 1988 में प्रकाशित हुई थी, जिस पर पर काफी विवाद हुआ था। इसके लिए रुश्दी पर पैगंबर मोहम्मद के अपमान का आरोप लगाया गया।

इस किताब का शीर्षक एक विवादित मुस्लिम परंपरा के बारे में है। इस परंपरा के बारे में रुश्दी ने अपनी किताब में खुल कर लिखा। किताब को कई मुस्लिम देशों में बैन कर दिया गया था। इसके प्रकाशन के बाद ही रुश्दी को मौत की धमकी मिली और ईरान के धार्मिक नेता आयातोल्लाह खोमैनी ने उनके लिए फतवा जारी कर दिया था। इस नॉवल के जापानी अनुवादक हितोशी इगाराशी की हत्या कर दी गई थी, जबकि इटेलियन अनुवादक और नॉर्वे के प्रकाशक पर भी हमले हुए।

Read Full Article at Source