विस्‍तारा: विलय बना गले की फांस, क्‍यों कंपनी में मर्जर के खिलाफ हुए कर्मचारी?

3 weeks ago

News18 हिंदी -

मनी

Powered bymoneycontrol-logo

विस्‍तारा ने बैठे-बैठाए मोल ले लिया संकट! विलय बना गले की फांस, क्‍यों अपनी ही कंपनी में मर्जर के खिलाफ हैं कर्मचारी?

होम

/

न्यूज

/

व्यवसाय

/

विस्‍तारा ने बैठे-बैठाए मोल ले लिया संकट! विलय बना गले की फांस, क्‍यों अपनी ही कंपनी में मर्जर के खिलाफ हैं कर्मचारी?

नई दिल्‍ली. एयर इंडिया और विस्‍तारा के विलय को लेकर उत्‍पन्‍न हुई परिस्थितियों का सीधा असर अब उड़ानों पर भी पड़ने लगा है. बीते दिनों की तरफ, आज मंगलवार को भी विस्‍तारा एयरलाइंस की 40 से अधिक फ्लाइट कैंसिल रहीं. इसके अलावा, एयरलाइंस की फ्लाइट्स के विलंब होने का सिलसिला भी लगातार जारी रहा. 

दिल्‍ली एयरपोर्ट से मंगलवार को सबसे अधिक 14 फ्लाइट कैंसिल रहीं. इसके अलावा, बेंगलुरु एयरपोर्ट से 11, मुंबई एयरपोर्ट से आठ, अहमदाबाद से 2, चंडीगढ़ एयरपोर्ट से 2 और अमृतसर, भुवनेश्‍वर और चेन्‍नई एयरपोर्ट से एक-एक फ्लाइट कैंसिल रहीं. एयरलाइन सूत्रों के अनुसार, फ्लाइट कैंसिलेशन का सिलसिला आगे भी जारी रह सकता है. 

क्‍या है फ्लाइट कैंसिलेशन की असल वजह?
एयर इंडिया और विस्‍तारा टाटा के स्‍वामित्‍व वाली दो कंपनियां है. अब दोनों कंपनियों के विलय को लेकर प्रक्रिया तेजी से आगे बढ़ चली है. विलय के बाद एयरलाइंस में अपनी स्थिति को लेकर पायलट, क्रू सहित अन्‍य कर्मचारियों में असमंजस की स्थिति बनी हुई है. जिसके चलते, कई एयरलाइंस कर्मियों ने खुद की तबियत को कारण बता कर छुट्टी ले ली है. 

कर्मचारियों की इन छुट्टियों का सीधा असर फ्लाइट के ऑपरेशन पर पड़ा और एक-एक कर एयरलाइंस के विमानों के विलंब होने का सिलसिला शुरू हो गया. फ्लाइट्स में हो रहे विलंब की वजह से मुसाफिरों को खासा परेशानियों का सामना भी करना पड़ा. इस स्थिति में सुधार लाने के लिए एयरलाइंस ने अपनी कुछ फ्लाइट्स को कैंसिल किया है.  

क्‍या सिर्फ फ्लाइट कैंसिलेशन से स्थिति सुधर पाएगी?
एयरलाइंस से जुड़े सूत्रों के अनुसार, 300 से अधिक घरेलू और अंतरर्राष्‍ट्रीय उड़ानों का संचालन करने वाली विस्‍तारा एयरलाइंस फिलहाल अपना बैकलॉग खत्‍म करने के लिए अपने शेड्यूल में अस्‍थाई परिवर्तन कर रही है, जिसमें फ्लाइट का कैंसिलेशन शामिल है. फ्लाइट डिले की काबू करने के बाद इन फ्लाइट्स को बहाल कर दिया जाएगा. 

इसके अलावा, बैकलॉग खत्‍म करने के लिए एयरलाइंस अपने डोमेस्टिक सेक्‍टर में वाइड-बॉडी ड्रीमलाइनर और एयरबस ए 321 भी तैनात करने जा रहा है. सूत्रों के अनुसार, इन कदमों से फौरी तौर पर स्थिति में काबू पा लिया जाएगा, लेकिन स्थिति को फिर पलटने में बहुत देर नहीं लगेगी. लिहाजा, एयरलाइंस को अवरोध की मुख्‍य वजह पर काम करना होगा.  

क्‍या है एयरलाइंस कर्मियों की नाराजगी की असल वजह?
एयरलाइन में नाराजगी की सबसे बड़ी वजह वेतन पैकेज है. दरअसल, एयर इंडिया में विलय के बाद एयरलाइन कर्मियों के वेतन-पैकेज में कथित तौर पर कटौती की बात कही गई है. जिससे एयरलाइंस का पायलट वर्ग और क्रू खासे नाराज है. इसी नाराजगी की वजह से लगातार अपने स्‍वास्‍थ्‍य को कारण बता कर लगातार ड्यूटी से दूर रह रहे हैं; 

वहीं, 15 पायलटों के इस्‍तीफे के बाद विस्‍तारा एयरलाइंस का संकट और गहरा गया है. सूत्रों की मानें तो विस्‍तारा के इन पायलट्स ने दूसरी एयरलाइंस ज्‍वाइन कर ली है. ऐसी स्थिति को देखने के बाद ऐसा नहीं लग रहा है कि विस्‍तारा एयरलाइंस की फ्लाइट कैसिंलेशन का संकट इतनी आसानी से हल हो पाएगा. यानी आने वाले दिनों में एयरलाइंस के यात्रियों को परेशानी का सामना करना ही पड़ेगा. 

सोमवार को किस एयरपोर्ट से कौन सी फ्लाइट हुई कैंसिल?

दिल्‍ली एयरपोर्ट : UK 997 – पुणे, UK 985 – मुंबई, UK 977 – मुंबई, UK 975 – मुंबई, UK 959 – अहमदाबाद, UK 943 – मुंबई, UK 913 – इंदौर, UK 837 – चेन्नई, UK 817 – बेंगलुरु, UK 753 – रांची, UK 643 – श्रीनगर, UK 553 – गोवा, UK 444 – अमृतसर, UK 781 – भुवनेश्वर मुंबई एयरपोर्ट: UK 695 – अमृतसर, UK 653 – चंडीगढ़, UK 873 – हैदराबाद, UK 851 – बेंगलुरु, UK 515 – कोच्चि, UK 521 – कोयंबटूर, UK 823 – चेन्नई बेंगलुरु एयरपोर्ट: UK633 – उदयपुर, UK583 – गोवा, UK893 – हैदराबाद, UK818 – दिल्ली, UK503 – कोच्चि, UK452 – दिल्ली, UK852 – देहरादून, UK525 – तिरुवनंतपुरम, UK501 – कोच्चि, UK761 – कोलकाता, UK581 – गोवा. अन्‍य एयरपोर्ट: अहमदाबाद एयरपोर्ट से UK573 – बेंगलुरु, UK946 -दिल्‍ली; अमृतसर एयरपोर्ट से UK695 – मुंबई; भुवनेश्‍वर एयरपोर्ट से UK782 – दिल्‍ली; चंडीगढ़ एयरपोर्ट से UK 654 – मुंबई; चेन्नई एयरपोर्ट से UK 824 – मुंबई.

.

Tags: Air india, Airport Diaries, Aviation News, Business news in hindi, Delhi airport, IGI airport, Vistara airlines

FIRST PUBLISHED :

April 2, 2024, 20:21 IST

Read Full Article at Source