कोविड का कहर:संक्रमण ने ले ली 33 साल के गीतकार श्याम देहाती की जान, अस्पताल ले जाते वक्त ऑक्सीजन कम होने से रास्ते में टूटी सांसें

3 weeks ago

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

भोजपुरी फिल्मों व एकल गीतों के चर्चित गीतकार श्याम देहाती का निधन हो गया है। वे 33 साल के थे। वे बेतिया, बिहार के रहने वाले थे। बताया जाता है कि तीन दिन पहले उनका कोरोना टेस्ट पॉजिटिव आया था। हालत बिगड़ने के बाद रविवार को उन्हें एम्बुलेंस द्वारा बेतिया से गोरखपुर ले जाया जा रहा था। लेकिन रास्ते में ही ऑक्सीजन लेवल कम होने से उनकी सांसे टूट गईं और अस्पताल पहुंचने पर उन्हें मृत घोषित कर दिया गया।

दो बच्चों के पिता थे श्याम देहाती

श्याम देहाती की शादी हो चुकी थी। वे 5 साल की बेटी और डेढ़ साल के बेटे के पिता थे। पत्नी और बच्चों के साथ वे अपने पीछे माता-पिता को भी छोड़ गए हैं। गायक व अभिनेता खेसारी लाल यादव ने उनके निधन पर गहरा शोक जताया है। उन्होंने सोशल मीडिया पर लिखा है, "हम सभी की लाख कोशिश के बावजूद हमारा भाई श्याम देहाती अब नहीं रहा। ये मैसेज हमसे शेयर नहीं किया जा रहा। मन बहुत भारी हो गया है। भाई आप इस दुनिया में नहीं हैं, लेकिन आपकी लिखा हर गीत हम सभी के बीच आपके होने का एहसास दिलाएगा।"

लिफ्टमैन से गीतकार बने थे देहाती

भोजपुरी के वरिष्ठ फिल्म समीक्षक ए. एन सिंह ने बताया कि श्याम देहाती शुरुआती दौर में मुंबई में रोजी रोजगार की तलाश में गए थे, जहां उन्हें लिफ्टमैन की नौकरी मिल गई थी। जिस बिल्डिंग में लिफ्ट मैन की नौकरी करते थे, उसमें फिल्मकारों का आना जाना था। कई बिहारी फिल्म निर्माता भी आते-जाते थे। इसी दौरान वे 'निरहुआ रिक्शावाला' के निर्देशक केडी के संपर्क में आए और उन्हें उस फिल्म में गाना लिखने का मौका मिला।

2007 में दिया था बतौर गीतकार डेब्यू

2007 में फिल्म ‘निरहुआ रिक्शावाला’ से बतौर गीतकार भोजपुरी फिल्म जगत में डेब्यू करने वाले श्याम देहाती के पास इस फिल्म के हिट होने के बाद काम का अंबार लग गया था। दर्जनों फिल्मों में गीत लिखने के बाद उन्होंने फिल्मों में संगीत देने का भी काम किया। तीन साल पहले वह फिल्म ‘रानी दिलबर जानी’ से हीरो भी बन गए थे। ‘रानी दिलबर जानी’ में भोजपुरी इंडस्ट्री की आठ बड़ी नायिकाओं ने एक साथ काम किया था, जिनमें रानी चटर्जी, पाखी हेगड़े, मोनालिसा, अंजना सिंह, अर्चना सिंह, सीमासिंह व आम्रपाली दुबे शामिल रहीं।

हाल ही नमकीन का बिजनेस शुरू किया था

श्याम देहाती को उम्मीद थी कि 'रानी दिलबर जानी' से वे भोजपुरी के दूसरे गायकों व गीतकारों की तरह बड़ा नाम बन जाएंगे और उनकी किस्मत पलट जाएगी। लेकिन ऐसा हो नहीं सका। बताया जाता है कि श्याम देहाती पिछले डेढ़ साल से काफी व्यथित चल रहे थे और उन्होंने हाल ही में अपना अलग नमकीन उद्योग भी शुरू करने की कोशिश की थी।

Article Source